रविवार, 19 जुलाई 2015

सर्दी जुकाम से कुछ यूं बचें।

www.blogvarta.com

 

मौसम के बदलते ही जब कभी  हमारा शरीर मौसम के अनुसार एडजस्ट  नहीं कर पाता तो  अक्सर हमें सर्दी जुकाम  की शिकायत शुरू हो जाती है। यूं तो ये बिमारी  साधारण सी लगती है पर पूरे शरीर पर अपनी छाप  देती है। सर्दी जुकाम का कोई स्थाई उपचार नहीं है। जब हमारा इम्यून  सिस्टम कमजोर हो या पेट ठीक ना हो तो ऐसी स्थिति में सर्दी जुकाम बहुत जल्दी पकड़ बना लेता है। एलोपैथिक  दवाइयों से जुकाम दब तो जाता है पर उसके साइड इफेक्ट  बने रहते हैं । यदि हम कुछ सावधानियां बरते  या घरेलू उपाय अपनाये, जो कि  आसानी उपलब्ध हो जाते है तो इससे बचे रहते हैं । यदि जुकाम होने से पहले ही उससे बचा जा सके तो एक साथ कई परेशानियों से बचा जा सकता है.


 जुकाम क्या है  -

जुकाम एक तरह की एलर्जी  है।  हमारे श्वसन तन्त्र  में जुकाम होने पर पस  सेल्स  और पानी का मिश्रण बन जाता है जो नाक व गले के माध्यम से बहने लगता है। जुकाम इस बात का लक्षण है की श्वसन तंत्र में  इंफेक्शन  हो चुका  है ,जो आगे चलकर निमोनिया, बुखार आदि  का रूप भी ले सकता है। 


 जुकाम के रूप -

जुकाम अनेक प्रकार का होता है। आम तौर पर  सामान्य जुकाम  हमारे इम्यून  सिस्टम के हिसाब से 4 -5  दिन या 6 -7  दिन या 1 0 दिन  तक भी  रह सकता  है। जिसमें शुरू में गले में खराश रहती है , नाक व आँख से पानी बहता है।  पर यदि जुकाम 5 - 7  दिन से ज्यादा रह जाए साथ में बुखार , बदन दर्द, खासी  व  बलगम भी हो तो डाक्टर को दिखाना चाहिए।


कैसे होता है जुकाम ? 

आम तौर पर  हमारा इम्यून सिस्टम कमजोर पढ़ने पर ही हमें जुकाम होता है।  प्रदूषण भी एक मेन  कारण  कहा जा सकता है। जिसके कारण  एलर्जी जैसे रोग बढ़ते ही जा रहे है।  हवा में स्थित बैक्टीरिया जब श्वास  के जरिये हमारे शरीर में प्रवेश करते है तो एलर्जी हो जाती है। ये वाइरस हमारे श्वसन तंत्र को भी प्रभावित कर देते है। 

हमारे गले में अच्छे व बुरे दो तरह के बैक्टीरिया होते हैं , कभी मौसम बदलने पर , ठंडा व गरम खाने पर ,एकदम से गर्मी के बाद ठंडा पानी आदि पी लेने से बुरे बैक्टीरिया सक्रिय  हो उठते है जिसकी वजह से जुकाम हो जाता है।

सर्दी  जुकाम  ठीक करने के घरेलू  उपाय -

  • जब कभी गले में गले में खरास हो तो उसे जुकाम का अलार्म ही समझना  चाहिए।  सबसे पहले कोशिश करें की पेट में कब्ज ना रहे। क्योंकि  पेट में कब्ज रहना एक साथ कई रोगों को दावत देना है। जुकाम की आहट  मिलते ही एलोविरा का जूस सुबह व शाम 2 टाइम  ले सकते है।गुनगुने पानी में  नीबू व शहद मिला कर दिन में कई बार हर २ घंटे के अंतराल पर ले लें।  डाइबीटीज़ के पेशेन्ट बिना शहद के गुनगुने पानी में नीबू का रस लें.  जुकाम ज्यादा नहीं बढ़ पायेगा। साथ में हल्का व सुपाच्य भोजन करें। 
  • गले में खरास की शुरुआत होते ही गुनगुने पानी में  नमक डाल कर दिन में 3  या 4  बार गरारे करें , यह  जुकाम के बैक्टीरिया  को शरीर में प्रवेश करने से रोकता है। 
  • किसी स्टीम वैपराजार से या  किसी बर्तन में पानी गरम करके दिन में २ बार भाप लें , जिससे नाक व अंदर गले की सूजन कम होगी तथा बलगम भी गल कर बाहर आएगा। 

  • सौंठ ,,मुलेठी , काली मिर्च व पीपली को बराबर मात्रा में  मिलाकर पीस लें , इस पाउडर को शहद में मिलाकर दिन में 4  या 5  बार लें , जिन्हें शुगर है वो आधा छोटा चम्मच  मलाई में आधा चम्मच  इस मिक्सचर को मिला कर ले सकते हैं। 
  • एक  गिलास दूध में आधा चम्मच हल्दी मिलाकर उबाल लें , इसे गरम गरम ही  रत को सोने से पहले पीयें या  आधा चम्मच हल्दी को भून कर आधा चम्मच शहद में मिलाकर दिन में 2 -3  टाइम चाट लें। 

  • अदरक का रस तथा शहद  बराबर मात्रा  में मिला लें  तथा इसका  दिन में 3 - 4 बार इसका सेवन करें। इससे जुकाम व खासी दोनों में लाभ होगा।
  • किशमिश को पानी के साथ पीस कर पेस्ट बना लें , इसमें चीनी डालकर उबाल लें ,ठंडा होने को रख दें रोज रात को सोने से पहले  आधा गिलास कुछ दिन लगातार पी लें। 
  •  लगभग  एक फिट लम्बी गिलोय की  डंडी लेकर कूट लें ,एक इंच के बराबर अदरक का टुकड़ा ,पांच लोंग,  आठ से दस पत्ते तुलसी के  व सात  कालीमिर्च ले कर  कूट लेँ , चार गिलास पानी में  मिलाकर  उबालें जब एक गिलास रह जाये तो घूंट -घूँट  कर  दिन में  2  या  3  बार पी लें निश्चय ही सर दर्द ,जुकाम तथा बुखार में लाभ होगा। जुकाम अधिक  तेज होने पर दिन में 4  टाइम भी ले सकते हैं। 

  • जुकाम के इलाज में हल्दी  बहुत अधिक फायदेमंद  है।  जब नाक व आखो से पानी बह   रहा हो तो ,हल्दी को जलाकर उसका धुँआ सूंघने से नाक से पानी बहना बंद हो जाता है। 
  • यदि  नाक बंद हो तो काली मिर्च , इलाइची , दालचीनी व जीरा को बराबर मात्रा में लेकर थोड़ा कूट कर एक पतले  सूती कपडे या रुमाल में बांधकर  बार - बार सूंघें ,  जिससे छींक आएगी तथा बंद नाक खुल जाएगी। 

  • कपूर की एक टिकिया सूती कपडे में बांधकर सूंघने से भी  बंद नाक खुल जाती है।  
  • जुकाम में विटामिन सी बहुत लाभदायक है। विटामिन सी युक्त मौसमी  फलों   का सेवन करें। 

  • 6 ग्राम काली मिर्च को  30 ग्राम गुड , 60 ग्राम दही के साथ  मिलाकर सुबह व शाम 5  या    6  दिन लगातार खाने से बिगड़ा हुआ जुकाम ठीक हो जाता है। 
  • 4 या 5  खजूर को एक गिलास दूध में उबालकर रात को सोने से प       पहले खजूर खा कर  ऊपर से दूध पीकर मुंह ढक कर सो जाएँ  तीन या चार दिन लगातार  लगातार पीने से लाभ होगा। 
योग और प्राणायाम से सर्दी जुकाम में लाभ   

  • बार सर्दी जुकाम होता हो या  एलर्जी के कारण  जुकाम हो तो योग व प्राणायाम से बढ़कर कोई और दूसरा लाभदायक उपाय  नहीं हो सकता। किसी एक्सपर्ट की देखरेख में जल नेति, सूत्र नेति , व  कुंजल क्रिया करें। सूर्य नमस्कार , धनुरासन , उत्तानपादासन आदि लाभदायक हैं , साथ में नित्य भस्त्रिका ,कपालभाति व अनुलोम विलोम प्राणायाम करने से एलर्जी व जुकाम कंट्रोल  होगा तथा इम्यून सिस्टम भी मजबूत होगा।      

नोट --- आयुर्वेदिक  घरेलू वस्तुओ से साइड इफेक्ट  के बराबर होते है फिर भी कोई चीज आपको सूट न करती हो तो उसका उपयोग  करें।  


     






                                                                                                   
   

2 टिप्‍पणियां:

aditi bhatt ने कहा…

very helpful :)

bhashkar oli ने कहा…

very useful informetion